ग्रहण दोष- करियर व्यापार और धन की समस्या का कारण है, जानिए उपाय- मनीष साईं

ग्रहण दोष- करियर व्यापार और धन की समस्या का कारण है, जानिए उपाय- मनीष साईं

( लेखक मनीष साईं विश्व के प्रसिद्ध वास्तु ज्योतिष एवं तंत्र विशेषज्ञ है)

ज्योतिष में ऐसे अनेक योगों का विस्तार से वर्णन मिलता है जो यदि किसी व्यक्ति की जन्मकुंडली में हो तो बुरे प्रभाव दिखाते हैं। इन्हीं में से एक है ग्रहण दोष। ग्रहण दोष एक अशुभ योग है यह जिस कुंडली में होता है उस व्यक्ति का जीवन कष्टप्रद हो जाता है। उसके जीवन में न तो तरक्की होती है और न आर्थिक परेशानियों से उबर पाता है। अज्ञानतावश उस व्यक्ति का पूरा जीवन संकटग्रस्त बीतता है। यदि योग्य ज्योतिष के पास जाकर ग्रहण दोष का निवारण करवा लिया जाए तो परेशानियां काफी हद तक कम हो जाती है।
आप सभी जानते हैं कि ग्रहों की स्थिति व्यक्ति को आशावादी और निराशावादी बनाती है। इसके लिए चन्द्रमा एवं राहु विशेष रूप से जिम्मेदार होते हैं।इन्हीं में से एक है ग्रहण दोष। ग्रहण दोष एक अशुभ योग है जो जिस कुंडली में होता है उस व्यक्ति का जीवन कष्टप्रद हो जाता है। उसके जीवन में न तो तरक्की होती है और न आर्थिक परेशानियों से उबर पाता है। अज्ञानतावश उस व्यक्ति का पूरा जीवन संकटग्रस्त बीतता है। जिस व्यक्ति की कुण्डली में चन्द्रमा और राहु एक ही घर में साथ-साथ होते हैं। उनकी कुण्डली में ग्रहण योग बनता है। यह योग जिनकी कुण्डली में होता वह निराशावादी होते हैं। ऐसे व्यक्ति की याद्दाश्त कमज़ोर होती है। इनके अंदर आत्मविश्वास की कमी होती है जिससे छोटी-छोटी बातों को लेकर यह तनाव में आ जाते हैं। ऐसे लोगों को नेत्र संबंधी रोग होने की आशंका रहती है। अगर राहु के साथ चन्द्रमा पहले अथवा आठवें घर में होता है तो व्यक्ति को मिरगी एवं दूसरे मानसिक रोग होने की भी संभावना रहती है।

जिस व्यक्ति की कुण्डली में एक ही घर में सूर्य, चन्द्र एवं राहु साथ होते हैं उनकी कुण्डली में ग्रहण योग का प्रभाव अधिक होता है। इन्हें कैरियर में काफी समस्याओं का सामना करना पड़ता है। अकारण ही किसी बात को लेकर भयभीत रहते हैं। जीवन में कई बार गंभीर आर्थिक संकट का सामना करना पड़ता है। सूर्य एवं चन्द्र के साथ जब भी राहु की दशा चलती है, वह समय इनके लिए कष्टकारी होता है।

कुण्डली में सूर्य के साथ राहु होने पर भी ग्रहण योग बनता है। यह ग्रहण योग जिनकी कुण्डली में होता है वह किसी विषय पर गंभीरता से विचार किये बिना कार्य बैठते हैं जिसका इन्हें नुकसान उठाना पड़ता है। ऐसे लोग भी विषयों को अधिक समय तक याद नहीं रख पाते हैं। पिता से प्राप्त होने वाले सुख मैं हमेशा कमी रहती है।
यह बात सर्वविदित है कि मनुष्य के जीवन में आने वाले सुख-दुख, लाभ-हानि, यश-अपयश, रोग, ये सब ग्रह नक्षत्रों की चाल और गति पर निर्भर करते हैं। कई बार कड़ी मेहनत करने के बाद भी मनुष्य को जीवन में हानि ही मिलती रहती है, जबकि कई लोगों को थोड़ी से मेहनत के बाद मनचाहा परिणाम मिलता है। ज्योतिष शास्त्र में नौ ग्रहों के माध्यम से जीवन में आने वाली अच्छी-बुरी घटनाओं का आकलन किया जाता है।

◾ग्रहण दोष क्या होता है

ज्योतिष शास्त्र में ग्रहण दोष की विस्तृत परिभाषा दी गई है। उसके अनुसार जब किसी जन्मांगचक्र यानी लग्न कुंडली के द्वादश भावों में से किसी एक भाव में सूर्य या चंद्र के साथ राहु या केतु में से कोई एक ग्रह बैठा हो तो ग्रहण दोष बनता है। इसके अलावा यदि सूर्य या चंद्रमा के घर में राहु-केतु में से कोई एक ग्रह मौजूद हो तो यह ग्रहण दोष कहलाता है। ग्रहण दोष जिस भाव में बनता है उस भाव से संबंधित परिणामों पर यह अशुभ प्रभाव डालता है। उदाहरण के तौर पर यदि देखा जाए तो द्वितीय भाव धन स्थान कहलाता है। यदि इस भाव में ग्रहण दोष लगता है तो व्यक्ति जीवनभर आर्थिक परेशानियों से जूझता रहता है। एक संकट टलते ही दूसरा आ जाता है। कार्य-व्यवसाय ठीक से नहीं चलता। नौकरी में बार-बार बदलाव होता है। धन की बचत नहीं हो पाती। आर्थिक कार्य होते-होते रूक जाते हैं

◾ग्रहण दोष के लक्षण और प्रभाव-

ग्रहण दोष मुख्यतः सूर्य या चंद्र के साथ राहु या केतु की उपस्थिति के कारण बनता है। जिस प्रकार सूर्य या चंद्र ग्रहण होने पर अंधकार सा छा जाता है, उसी तरह कुंडली में ग्रहण दोष लगने पर जीवन में आर्थिक, सामाजिक, पारिवारिक, नौकरी में प्रमोशन, व्यापार में लाभ जैसी स्थितियों पर भी ग्रहण लग जाता है। व्यक्ति की तरक्की बाधित हो जाती है। जब किसी के जीवन में अचानक परेशानियां आने लगे, कोई काम होते-होते रूक जाए। लगातार कोई न कोई संकट, बीमारी बनी रहे तो समझना चाहिए कि उसकी कुंडली में ग्रहण दोष लगा हुआ है।

◾ग्रहण दोष का निवारण-

ज्योतिष शास्त्र में प्रत्येक संकट का निवारण भी बताया गया है। यदि आप ग्रहण दोष से परेशान हैं तो आप कुंडली भेज कर मुझ से सलाह प्राप्त कर सकते हैं। इस योग का पूर्ण निवारण केवल चंद्र ग्रहण या सूर्य ग्रहण के दिन ही किया जा सकता है। इसलिए पहले से निवारण का दिन निश्चित कर लेना चाहिए। हालांकि तात्कालिक परेशानियों को कम करने के लिए कुछ उपाय अन्य दिनों में भी किए जा सकते हैं। जो इस प्रकार हैं-

1. यदि आपने कोई गुरु बना रखा है तो गुरु की सेवा करें। गुरु मंत्र का जाप करते रहें।

2. सूर्य के कारण ग्रहण दोष बना है तो नियमित सूर्य को जल चढ़ाएं। आदित्यहृदय स्तोत्र का पाठ करें। रविवार को नमक का सेवन न करें। किसी कन्या को लाल वस्त्र दान करें।

3. यदि चंद्र के कारण ग्रहण दोष बना है तो श्वेत वस्त्र दान करें। सोमवार को किसी कन्या को केसर डालकर चावल की खीर खिलाएं।

4. महामृत्युंजय मंत्र के सवा लाख जाप करें।

5. राहु और केतु की शांति के लिए शिव और हनुमान की आराधना करें।

6. चांदी के बर्तनों में भोजन करें यदि आप समृद्ध नहीं है तो जल में चांदी का छोटा सा टुकड़ा डाल कर उस जल का सेवन करें।

◾पावर ग्रिड और यंत्र से ग्रहण दोष का निवारण-

जन्मकुंडली में बने ग्रहण दोष का निवारण सात चक्र पावर ग्रिड एवं सिद्ध यंत्रों के जरिए भी किया जाता है। जिन लोगों को ग्रहण दोष लगा हुआ है उन्हें राहु केतु का सात चक्र पावर ग्रिड बनवाकर अपने घर में रखना चाहिए। महामृत्युंजय यंत्र, हनुमत यंत्र या राहु-केतु के यंत्रों में से किसी एक की स्थापना अपने घर के पूजा स्थान में करना चाहिए। यदि आर्थिक संकट से जूझ रहे हैं तो अपने व्यापारिक प्रतिष्ठान में भी महामृत्युंजय यंत्र लगाएं।

साईं अन्नपूर्णा सोशल फाउंडेशन वेद और वैज्ञानिक रिसर्च के माध्यम से व्यक्ति के जीवन में होने वाली परेशानियों को दूर करने का प्रयास करता है संस्थान द्वारा विश्व की समग्र चिकित्सा पद्धतियों को एकजाई कर रेमेडियल वास्तु का निर्माण किया है इसमें व्यक्ति का जीवन, व्यक्ति का आचरण, व्यक्ति के ग्रहों का संतुलन और उसके जीवन से जुड़ी परेशानियों पर विस्तृत अध्ययन किया जाता है ।उसके बाद समाधान की प्रक्रिया शुरु होती है ।30 लाख के लगभग लोग संस्थान से जुड़े हैं जिनके जीवन में परिवर्तन आया है आप भी इस परिवर्तन का हिस्सा बन सकते हैं।

????????संपर्क करें-

साईं अन्नपूर्णा सोशल फाउंडेशन 156 सहयोग विहार शाहपुरा थाने के पास भोपाल मध्य प्रदेश
संपर्क- 09617950498
Whatsapp number- 7000632297
Website- www.manishsai.org
???????? सबका भला हो सब सुख पाए

Comments

CAPTCHA code

User's Comment