जल्द बनेगा स्वयं का घर,करें यह उपाय -मनीष साईं

🏬ज्योतिष- वास्तु के अनुसार

🚩🚩 जल्द बनेगा स्वयं का घर,करें यह उपाय -मनीष साईं

* जानिए ज्योतिष में घर बनने के योग कैसे बनते हैं।

प्रतिदिन हजारों मैसेजेस आते हैं उनमें सबसे अधिक लोगों के प्रश्न होते हैं, लाख प्रयास के बावजूद घर नहीं बन पा रहा है। मेरा यह लेख उन लोगों के लिए महत्वपूर्ण है ।एक अच्छा घर बनाने की इच्छा हर व्यक्ति के जीवन की चाह होती है। व्यक्ति किसी ना किसी तरह से जोड़-तोड़ कर के घर बनाने के लिए प्रयास करता ही है। कुछ ऎसे व्यक्ति भी होते हैं जो जीवन भर प्रयास करते हैं लेकिन किन्हीं कारणो से अपना घर फिर भी नहीं बना पाते हैं। कुछ ऎसे भी होते हैं जिन्हें संपत्ति विरासत में मिलती है और वह स्वयं कुछ भी नहीं करते हैं।बहुत से अपनी मेहनत से एक से अधिक संपत्ति बनाने में कामयाब हो जाते हैं। जन्म कुंडली के ऎसे कौन से योग हैं जो मकान अथवा भूमि अर्जित करने में सहायक होते हैं।

स्वयं की भूमि अथवा मकान बनाने के लिए चतुर्थ भाव का बली होना आवश्यक होता है, तभी व्यक्ति घर बना पाता है।

मंगल को भूमि का और चतुर्थ भाव का कारक माना जाता है, इसलिए अपना मकान बनाने के लिए मंगल की स्थिति कुंडली में शुभ तथा बली होनी चाहिए।

मंगल का संबंध जब जन्म कुंडली में चतुर्थ भाव से बनता है तब व्यक्ति अपने जीवन में कभी ना कभी खुद की प्रॉपर्टी अवश्य बनाता है।

मंगल यदि अकेला चतुर्थ भाव में स्थित हो तब अपनी प्रॉपर्टी होते हुए भी व्यक्ति को उससे कलह ही प्राप्त होते हैं अथवा प्रॉपर्टी को लेकर कोई ना कोई विवाद बना रहता है।

मंगल को भूमि तो शनि को निर्माण माना गया है। इसलिए जब भी दशा-अन्तर्दशा में मंगल व शनि का संबंध चतुर्थ-चतुर्थेश से बनता है और कुंडली में मकान बनने के योग मौजूद होते हैं तब व्यक्ति अपना घर बनाता है।

चतुर्थ भाव/चतुर्थेश पर शुभ ग्रहों का प्रभाव घर का सुख देता है।

चतुर्थ भाव/चतुर्थेश पर पाप व अशुभ ग्रहो का प्रभाव घर के सुख में कमी देता है और व्यक्ति अपना घर नही बना पाता है।

चतुर्थ भाव का संबंध एकादश से बनने पर व्यक्ति के एक से अधिक मकान हो सकते हैं।एकादशेश यदि चतुर्थ में स्थित हो तो इस भाव की वृद्धि करता है और एक से अधिक मकान होते हैं।

यदि चतुर्थेश, एकादश भाव में स्थित हो तब व्यक्ति की आजीविका का संबंध भूमि से बनता है।

कुंडली में यदि चतुर्थ का संबंध अष्टम से बन रहा हो तब संपत्ति मिलने में अड़चने हो सकती हैं।

जन्म कुंडली में यदि बृहस्पति का संबंध अष्टम भाव से बन रहा हो तब पैतृक संपत्ति मिलने के योग बनते हैं।

चतुर्थ, अष्टम व एकादश का संबंध बनने पर व्यक्ति जीवन में अपनी संपत्ति अवश्य बनाता है और हो सकता है कि वह अपने मित्रों के सहयोग से मकान बनाएं।

चतुर्थ का संबंध बारहवें से बन रहा हो तब व्यक्ति घर से दूर जाकर अपना मकान बना सकता है या विदेश में अपना घर बना सकता है।

जो योग जन्म कुंडली में दिखते हैं वही योग बली अवस्था में नवांश में भी मौजूद होने चाहिए।

भूमि से संबंधित सभी योग चतुर्थांश कुंडली में भी मिलने आवश्यक हैं।

चतुर्थांश कुंडली का लग्न/लग्नेश, चतुर्थ भाव/चतुर्थेश व मंगल की स्थिति का आंकलन करना चाहिए। यदि यह सब बली हैं तब व्यक्ति मकान बनाने में सफल रहता है।

मकान अथवा भूमि से संबंधित सभी योगो का आंकलन जन्म कुंडली, नवांश कुंडली व चतुर्थांश कुंडली में भी देखा जाता है। यदि तीनों में ही बली योग हैं तब बिना किसी के रुकावटों के घर बन जाता हैं। जितने बली योग होगें उतना अच्छा घर और योग जितने कमजोर होते जाएंगे, घर बनाने में उतनी ही अधिक परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है।

जन्म कुंडली में यदि चतुर्थ भाव पर अशुभ शनि का प्रभाव आ रहा हो तब व्यक्ति घर के सुख से वंचित रह सकता है। उसका अपना घर होते भी उसमें नही रह पाएगा अथवा जीवन में एक स्थान पर टिक कर नही रह पाएगा। बहुत ज्यादा घर बदल सकता है।

चतुर्थ भाव का संबंध छठे भाव से बन रहा हो तब व्यक्ति को जमीन से संबंधित कोर्ट-केस आदि का सामना भी करना पड़ सकता है।

वर्तमान समय में चतुर्थ भाव का संबंध छठे भाव से बनने पर व्यक्ति बैंक से लोन लेकर या किसी अन्य स्थान से लोन लेकर घर बनाता है।

चतुर्थ भाव का संबंध यदि दूसरे भाव से बन रहा हो तब व्यक्ति को अपनी माता की ओर से भूमि लाभ होता है।

चतुर्थ का संबंध नवम से बन रहा हो तब व्यक्ति को अपने पिता से भूमि लाभ हो सकता हैं।

🚩मकान एवं भूमि का सुख प्राप्त करने के आसान उपाय-

🔶जिस जमीन या मकान को आप खरीदना चाहते हैं उस स्थान की थोड़ी सी मिट्टी लाकर एक कांच की शीशी में उसे डालें, उसमे गंगा जल और कपूर डाल कर अपनी पूजा में जौ के ढेर पर स्थापित करें, नवरात्र भर उस शीशी के आगे नवार्ण मन्त्र “ऐं हीं क्लीं चामुण्डाय विच्चे” की पांच माला जप करें और जौ में रोज गंगा जल डालें। नवमी के दिन थोड़े से अंकुरित जौ निकाल लें और ले जाकर मन चाही जगह पे डाल दें, शेष सामग्री को नदी में डाल दें। कृपा कांच की शीशी को नदी में न डालें। आपको मनचाहा घर मिल जायेगा।

🔶 एक मिट्टी की कोरी हांडी में दूध, दही, घी, शक्कर, मिश्री, कपूर और शहद डाल कर उस हांडी के आगे दुर्गा नवार्ण मन्त्र का जप करें और आज ही वो हांडी किसी नदी या तालाब में ले जा कर जमीन में गाड़ दें तो माता की कृपा से शीघ्र आपको भूमि और भवन प्राप्त होगा।

🔶 यदि किसी कारणवश आप अपना मकान नहीं बनवा पा रहे हैं या नया मकान नहीं खरीद पा रहे है, तो नीम की लकड़ी का एक छोटा सा घर बनवाकर किसी गरीब बच्चे को दान कर दें या किसी मंदिर में रख आएं। ऐसा करने पर शीघ्र ही आपको घर मिलने के योग बनेंगे। ध्यान रहें इसके साथ ही आप अपने प्रयास भी पूरी ईमानदारी से करें।

🔶 मिटटी के बर्तन में हनुमान जी को बूंदी का भोग लगाये , फिर गरीबो को दान कर दे प्रोपर्टी जल्दी हो जाएगी । उनको 2 तुलसी का पत्ता भी जरूर चढ़ाए। लाल रंग की ध्वजा जिसमे राम लिखी हो मंगलवार को हनुमान जी को चढ़ाए। सुबह शाम हनुमान चालीसा जरूर करे।

🔶 वास्तु शास्त्र में अपनी मनचाही जमीन को पाने के लिए एक उपाय ये भी है कि आप जिस जमीन को पाना चाहते हो, उस जमीन में शाम को पूजा करके एक हाथ लम्बा और एक हाथ चौड़ा गड्ढा खोद कर उसमे पानी भर दें। इस तरह से वो भूमि आपके खरीदने के लिए उपयुक्त हो जाती है।
🔶 रोज सुबह स्नान करने के बाद गणेश जी को दूर्वा और एक लाल फूल चढ़ाएं।इसके साथ ही 21 दिन तक लगातार गणेश जी से अपना मकान बनाने की राह में आनेवाली हर समस्या के निवारण के लिए प्रार्थना करें।

🔶कम से कम 5 मंगलवार गणेश मंदिर में जाकर गणेश जी को गेहूं और गुड चढ़ाएं।

🔶अपना घर बनाने की चाह में आनेवाली समस्या को दूर करने के लिए किसी भी मंदिर में एक नीम की लकड़ी का छोटा सा घर बनवाकर दान करें।

🔶 अपना घर बनवाने के योग को मजबूत करने के लिए मंगलवार के दिन सफेद गाय और उसके बछड़े को लाल मसूर की दाल और गुड खिलाएं।

🔶 घोड़े को भीगी हुई दाल खिलाएं, इसके साथ ही रोज़ाना कौए को दूध में भीगी रोटी और तोतों को सप्तधान्य डालें। ऐसा करने से आपका आर्थिक पक्ष मज़बूत होने लगेगा।

🔶अपने घर में पूजा करने की जगह या फिर ईशान कोने में एक मिट्टी का छोटा सा घर लाकर रखें। उसमें हर रविवार को सरसों के तेल का दीपक जलाएं।दीपक जलने के बाद उसमें फिर से कपूर जलाएं।

🔶अगर आप अपना स्वयं का मकान बनाना चाहते हैं तो शुक्ल पक्ष के शुक्रवार या नवरात्र के किसी भी दिन एक लाल कपड़े में 6 चुटकी कुमकुम, 6 लौंग, 9 बिंदिया, 9 मुट्ठी साफ मिट्टी और 6 कौड़ियां लपेटकर किसी भी नदी या बहते पानी में विसर्जित करें। इन चीजों को विसर्जित करते समय मन में अपनी मनोकामना दोहराते रहें।यह टोटका करने से मां दुर्गा की कृपा प्राप्त होगी और जल्द ही अपना मकान बनाने की राह आसान हो जाएगी।

🔶 कहा जाता है कि अगर किसी घर में चिड़िया या गिलहरी अपना घोंसला बना ले, तो उस घर में सुख शांति, धन समृद्धि की कोई भी कमी नहीं होगी। इसलिए अगर वो आपके घर में घोंसला बना ले तो उसे हटाना नहीं चाहिए। अगर आप किराए के घर में रहते हैं और वहां चिड़िया घोंसला बना ले, तो यह आपके लिए भी शुभ शकुन है। भविष्य में आपका भी घर बन सकता है।

🔶 जिन लोगों को अपना मकान खरीदने या बनाने की इच्छा है लेकिन कोई न कोई रूकावट आ रही है तो वह रविवार से शुरू करके रोज़ सुबह गाय को गुड खिलाए। इस उपाय को श्रद्धा पूर्वक करने से गौ माता की कृपा होती है और अपना मकान खरीदने में आनेवाली सभी परेशानियां दूर होती है।

🔶 किसी भी सिद्ध मंदिर के परिसर में छोटे-छोटे पत्थरों से एक छोटा सा घर बनाएं।घर बनने के बाद वहां भगवान की पूजा करें और अपना घर बनावाने के लिए भगवान से प्रार्थना करें। यह एक प्राचीन और चमत्कारी उपाय है। यह उपाय करने से कुछ ही समय में इसका सकारात्मक परिणाम दिखाई देने लगेगा।

बहरहाल इन घर के लिए टोटके को आज़माकर अगर आपके आशियाने का सपना हकीकत में बदल सकता है तो फिर इन्हे आज़माने में आखिर हर्ज़ ही क्या है। इसके बावजूद यदि आप इन टोटकों से संतुष्ट नहीं है तो आप परम पूज्य गुरुदेव श्री मनीष जी से परामर्श प्राप्त कर मकान के निर्माण कब होगा कैसे होगा परामर्श प्राप्त कर सकते हैं।

🔹🔹विश्व प्रसिद्ध वास्तु,ज्योतिष एवं तंत्र गुरु श्री मनीष साईं जी परामर्श हेतु उपलब्ध।

🔸क्या आपको लगातार व्यापार में घाटा हो रहा है?
🔸क्या दिनों-दिन आप का कर्ज बढ़ रहा है आप कर्ज में डूबे हुए हैं ?
🔸पैसा आता है लेकिन रूकता नहीं है,पैसा ब्लॉक हो गया है?
🔸बच्चों को कैरियर में अवसर दिखाई नहीं देते ?
🔸पत्नी में विवाद रहता है तलाक की नौबत आ गई है ?
🔸करियर में स्थायित्व नहीं है बार-बार नौकरी छूटती है?
🔸 किसी ने आपके ऊपर तंत्र मंत्र कर दिया है?
🔸 ब्लैक मैजिक व अन्य तंत्र क्रियाओं के कारण आपका जीवन बर्बाद हो गया है?

इन सभी समस्याओं से घबराने की कोई आवश्यकता नहीं है विश्व के जाने-माने आध्यात्मिक एवं ज्योतिष वास्तु तंत्र गुरु श्री मनीष साईं जी आप की समस्याओं के समाधान के लिए उपलब्ध है। आप अपनी फैक्ट्री घर दुकान एवं वाणिज्य संस्थान की गुरुदेव से वास्तु विजिट भी करवा सकते हैं। विजिट का शुल्क आपके शहर और कितने वर्ग फीट का निर्माण है उस पर आधारित होता है। परामर्श हेतु संस्थान के नंबर 9425150498, 9617950498 पर आज ही संपर्क करें और अपना रजिस्ट्रेशन करवाएं।
www.gurumanishsai.com

🚩🚩सबका भला हो सब सुख पाए🚩🚩

Leave a Comment